Pubg: पब्जी मोबाइल इंडिया में बैन होने के कगार पर।

मुंबई प्रसिद्ध मोबाइल गेम पब्जी मोबाइल इस समय भारत में बंद होने के कगार पर है आजकल दुनिया में पबजी मोबाइल यह गेम अधिक पॉपुलर है पूरी दुनिया में इसके 400 मिलियन से ज्यादा डाउनलोड है। ये गेम बैन करने के लिए इंडिया में बॉम्बे हाई कोर्ट में पीआईएल दाखिल हो चुकी है। दक्षिण कोरियाई एक Gaming कंपनी निर्मित Pubg Mobile game इस गेम ने दुनिया भर के लोगो पर कब्ज़ा कर लिया है। लोगों को इस गेम की लत लग चुकी है।

Img Source

पबजी के विरोध में पीआईएल दाखिल हुई है, जो की एक महाराष्ट्र का 11 साल का लड़का है जिसका नाम अहद निजाम है। ये पीआईएल उसके पिता तनवीर निजाम ने कोर्ट में दाखिल किया था। कोर्ट ने मिनिस्ट्री आफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड आईटी को आदेश दिए है की इस ऑनलाइन गेम का रिव्यु करे और अगर कोई objectionable content मिलता है तो इसपर एक्शन ले।

सरकार की तरफ से पूर्णिमा कंठारिया ने कहा है की स्कूल के अंदर मोबाइल फ़ोन्स इस्तेमाल काने की इजाजत नहीं है। इस पीआईएल पर जस्टिस प्रदीप नांद्राजोग और जस्टिस NM जमादार कहा है की  “How can you say that schools should ban the game? Schools will say we already do not allow mobiles. If parents are permitting their children to access mobiles and play such games then what will the school do? Parents should ensure that kids stay away from the game if there is objectionable content.”

इस गेम में हिंसा होने के कारन पालकों में चिंता हो रही है। हाल ही में दुबई में भी पालको ने चिंता जताई है। उन्होंने भी संयुक्त अरब अमीरात में टेलीकॉम प्राधिकरण के पास शिकायत की है। पिछले दिनों गुजरात में भी ये गेम बैन करने की खबरे आ रही थी।

राजकोट के पुलिस आयुक्त Manoj Agraval ने भी एक बयान दिया था जिसमे उन्होंने कहा था की पुरे मार्च महीने में ये प्रतिबन्ध लगा रहेगा। भावनगर जैसे अन्य इंडियन जिलों और गिर सोमनाथ के कुछ हिस्सों में जिल्हाधिकारियो ने इस गेम पर प्रतिबन्ध लगाते हुए बयांन  जारी किये थे। इस बयांन के अनुसार अगर कोई पब्जी गेम खेलने की  कोई शिकायत करता है तो आईपीसी धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाएगी और एक महीने तक कारावास की सजा होगी।

पबजी मोबाइल की टर्म्स में उन्होंने साफ लिखा है की ये गेम 18 या उससे कम उम्र के बच्चे ये गेम खेल नहीं सकते।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *